Class 12th Hindi Subjective Questions Answers 2024 – Bihar Board

1. प्यार का इशारा और क्रोध का दुधारा से क्या तात्पर्य है ?

उत्तर- गंगा इरावती नील अमेज़न आदि नदियां अपने अंतर में समेटे हुए अपार जल राशि निरंतर प्रवाहित हो रही है। उनमें वेग है शक्ति है तथा अपनी जीव धारा के प्रति एक बेचैनी है प्यार भी है क्रोध भी है प्यार एवं आक्रोश का अपूर्व संगम है उनमें एक करुणाभरी ममता है तो अत्याचार शोषण एवं पाशविकता के विरुद्ध दोधारी आक्रामकता भी है प्यार का इशारा तथा क्रोध की दुधारा का तात्पर्य यही है।

2. पृथ्वी के प्रसार को किन लोगों ने अपनी सेनाओं से गिरफ्तार कर रखा है ?

उत्तर- पृथ्वी के प्रसार को दुराचारियों तथा दानवी प्रकृति वाले लोगों ने अपनी सेनाओं द्वारा गिरफ्तार किया है उन्होंने अपने काले कारनामों द्वारा प्रताड़ित किया है। उनके दुष्कर्मों तथा अनैतिक कृत्यों से पृथ्वी प्रताड़ित हुई है। इस मानवता के शत्रुओं ने पृथ्वी को गंभीर यंत्रणा दी है

3. ज्वाला कहां से उठती है कवि ने इसे अतिक्रुद्ध क्यों कहा है?

उत्तर- ज्वाला का उद्गम स्थान मस्तक तथा हृदय के अंदर की उष्मा है। इसका अर्थ क्या होता है। कि जब मस्तिष्क में कोई कार्य योजना बनती है तथा ह्रदय की गहराई में उसके प्रति तीव्र उत्कंठा की भावना निर्मित होती है वह एक प्रज्वलित ज्वाला का रूप धारण कर लेती है। अतिक्रुद्ध का अर्थ होता है अत्यंत कुपित मुद्रा में आक्रोश की अभिव्यक्ति कुछ इसी प्रकार होती है । अत्याचार शोषण आदि के विरुद्ध संघर्ष का आहवान हृदय की अतिक्रुद्ध ज्वाला की मनः स्थिति में होता हैं

4. नदियों की वेदना का क्या कारण है ?

उत्तर- नदियों की वेगावती धारा में जिंदगी की धारा के बहाव कवि के अंतः मन की वेदना को प्रतिबिंबित करता है कवि को उनके कल कल करते प्रवाह में वेदना की अनुभूति होती है। गंगा इरावती नील अमेज़न नदियों की धारा मानव मन की वेदना को प्रकट करती है जो अपने मानवीय अधिकारों के लिए संघर्षरत है। कजनता को पीड़ा तथा संघर्ष को जनता से जोड़ते हुए बहती हुई नदियों में वेदना के गीत कवि को सुनाई पड़ते हैं।

5. घर पहुंचने पर लेखक को देख उनकी मां क्यों रो पड़ती है ?

उत्तर- जूठन शीर्षक आत्मकथा में लेखक ने एक ऐसे प्रसंग का भी वर्णन किया है। जो नहीं चाहते हुए भी उसे करना पड़ा क्योंकि लेखक की मां ने लेखक को उसके चाचा के साथ एक बैल की खाल उतारने के सहयोग के लिए पहली बार भेजा था। उनके चाचा लेखक से छूरी हाथ में देकर बैल की खाल उतरवाने में सहयोग लेता है। साथ ही खाल का बोझा भी आधे रास्ते में उसके सर पर दे देता है गठरी का वजन लेखक के वजन से भारी होने के कारण उसे घर तक लाते लाते लेखक की टांग जवाब देने लगती है और उसे लगता था कि अब वह गिर पड़ेगा सर से लेकर पांव तक गंदगी से भरा हुआ था कपड़ों पर खून के धब्बे साफ दिखाई पड़ रहे थे

6. सुरेंद्र की बातों को सुनकर लेखक विचलित क्यों हो जाते हैं ?

उत्तर- सुरेंद्र के द्वारा कहे गए वचन भाभी जी आपके हाथ का खाना तो बहुत जायकेदार है हमारे घर में तो कोई भी ऐसा खाना नहीं बना सकता है लेखक को विचलित कर देता है सुरेंद्र के दादी और पिता के जूठों पर ही लेखक का बचपन बीता था। उन जूठों की कीमत थी दिनभर की हाड़-तोड़ मेहनत और भन्ना देने वाली गोबर की दुर्गंध और ऊपर से गालियां धिक्कार।

सुरेंद्र की बड़ी बुआ शादी में हाड़ तोड़ मेहनत करने के बावजूद सुरेंद्र कि दादाजी ने उनकी मां के द्वारा एक पतल भोजन मांगे जाने पर कितना धिक्कारा था। उनकी औकात दिखाई थी यह सब लेखक की स्मृतियों में किसी चित्रपट की भांति पलटने लगा था। आज सुरेंद्र उनके घर का भोजन कर रहा है और उसकी बड़ाई कर रहा है सुरेंद्र के द्वारा कहा वचन स्वतःस्फूर्त स्मृतियों में उभर आता है और लेखक को विचलित कर देता है।

7. पिताजी ने स्कूल में क्या देखा उन्होंने आगे क्या किया पूरा विवरण अपने शब्दों में लिखें ?

उत्तर- लेखक को तीसरे दिन भी यातना दी जाती है और वह झाड़ू लगा रहा होता है तब अचानक उसके पिताजी उन्हें यह सब करते देख लेते हैं वह बाल लेखक को बड़े प्यार से मुंशी जी कहा करते थे। उन्होंने लेखक से पूछा मुंशी जी यह क्या कर रहा है उनकी प्यार भरी आवाज सुनकर लेखक फफक पड़ता है वे पुनः लेखक से प्रश्न करते हैं मुंशी जी रोते क्यों हो ठीक से बोल क्या हुआ है लेखक के द्वारा व्यक्त घटनाएं सुनकर वे झाड़ू लेखक के हाथ से छीन कर दूर फेंक देते हैं।

अपने लाडले की यह स्थिति देखकर वे आगबबूला हो जाते हैं वे तीखी आवाज में चीखने लगते हैं कि कौन सा मास्टर है जो मेरे लड़के से झाडू लगाता है उनकी चीख सुनकर हेड मास्टर सहित सारे मास्टर बाहर आ जाते हैं। हेडमास्टर लेखक के पिताजी को गाली देकर धमकाता है। लेकिन उसकी धमकी का उन पर कोई असर नहीं होता है आखिर पुत्र तो राजा का हो या रंक का पिता के लिए तो एक समान अपना जिगर का टुकड़ा ही होता है। उसकी बेइज्जती कैसे सही जा सकती है यही बात लेखक के गरीब पिता पर भी लागू होती है उन्होंने भी अपने पुत्र की दुर्दशा पर साहस और हौसले के साथ हेड मास्टर कालीराम का सामना किया।

8. चित्रकारी की किताब में लेखक ने कौन सा रंग सिद्धांत पढ़ा था ?

उत्तर- चित्रकारी की किताब में लेखक ने यह रंग सिद्धांत पढ़ा था कि शोक और भड़कीले रंग संवेदनाओं को बड़ी तेजी से उभारते हैं। उन्हें बड़ी तेजी से चरम बिंदु की ओर ले जाते हैं और उतनी ही तेजी से उन्हें ढाल की ओर खींचते हैं।

9. रचना और दस्तावेज में क्या फर्क है ? लेखक दस्तावेज को रचना के लिए कैसे जरूरी बताता है ?

उत्तर- दस्तावेज रचना के लिए जरूरी कच्चा माल है दस्तावेज वे तथ्य है जिनके आधार पर किसी रचना का जन्म होता है वह सारी घटनाएं परिस्थितियों हमारे जीवन का भोग अनुभव दस्तावेज के घटक है और रचना के कारक बिना दस्तावेज के रचना का हमारा जीवन से कोई सरोकार ही नहीं है इसलिए रचना का कोई मोल नहीं है। इस तरह रचना के लिए दस्तावेज बहुत जरूरी है।

रचना हमारी सोच की एक क्षितिज प्रदान करती है। ये एक माध्यम है उन परिस्थितियों से जूझने का दस्तावेज परिस्थितियों घटनाएं या अनुभव होती है। इसलिए इन्हें केवल परिष्कृत दिमाग की पहचान पाता है लेकिन जब यही रचना का रूप ले लेता है तब यह जन के लिए हो जाता है।

3702
Created on By
RLY Classes

🌹Class 12th Hindi Exam 2024 🌹 महा प्रतियोगिता क्विज 🌹

🌹Class 12th Hindi Exam 2024 🌹 महा प्रतियोगिता क्विज 🌹

1 / 10

1. 'भरपेट' में कौन सा उपसर्ग है।

2 / 10

2. 'पुरातन' में कौन सा उपसर्ग है

3 / 10

3. 'चचेरा' में कौन सा प्रत्यय है

4 / 10

4. बालकृष्ण भट्ट किस काव्य की रचनाकार है

5 / 10

5. बातचीत शीर्षक निबंध के निबंधकार है 

6 / 10

6. कौन सी रचना बालकृष्ण भट्ट की नहीं है 

7 / 10

7. संज्ञा के कितने भेद होते हैं 

8 / 10

8. एक एक में कौन सा संधि है

9 / 10

9. भाई-बहन में कौन सा समास है

10 / 10

10. मालिक मुहम्मद जायसी कैसी कवि है

Your score is

The average score is 65%

0%

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *